Apne Ghar Ki Pehredaari Kiya Karo

Sabko ruswa baari baari kiya karo
Har mausam mein fatwe jaari kiya karo
Neendon ka aankhon se rishta toot chuka
Apne ghar ki pehredaari kiya karo
Roz wahi ek koshish zinda rehne ki
Marne ki bhi kuch tayyaari kiya karo
Qatra qatra shabnam ginkar kya hoga
Dariyaaon ki daawedaari kiya karo
Chaand zyada roshan hai to rehne do
Jugnu bhaiyya ji mat bhaari kiya karo

                                         – Rahat Indori

Apne Ghar Ki Pehredaari Kiya Karo (Poetry In Hindi)

सबको रुस्वा बारी बारी किया करो
हर मौसम में फतवे जारी किया करो

नींदों का आँखों से रिश्ता टूट चुका
अपने घर की पहरेदारी किया करो

रोज़ वही एक कोशिश ज़िंदा रहने की
मारने की भी कुछ तय्यारी किया करो

क़तरा क़तरा शबनम गिनकर क्या होगा
दरियाओं की दावेदारी किया करो

चाँद ज़्यादा रोशन है तो रहने दो
जुगनू भैय्या जी मत भारी किया करो

                                            – राहत इंदौरी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *